सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO Fullform In Hindi) किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग पर फ्री ट्रैफिक पाने के लिए बहुत जरुरी है। इसमें आपको मेहनत तो करना पड़ता है लेकिन जब रिजल्ट आने लगता है तब बिलकुल मजा आ जाता है। एसईओ की मदद से आप हर महीने हजारों-लाखों ट्रैफिक बिलकुल फ्री में ला सकते है। आज इस आर्टिकल में मैं आपको यही बताने वाला हूँ कि SEO क्या है (SEO Kya Hai) और SEO की मदद से अपने ब्लॉग पर ट्रैफिक कैसे लाएं।

🟠 Start Investing In Stock Market To Grow Your Money ➡ Start Investing For Free

SEO Kya Hai In Hindi (SEO Fullform In Hindi)
SEO Kya Hai In Hindi (SEO Fullform In Hindi)

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको SEO यानी कि सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के बारे में सब कुछ (SEO Kya Hai, SEO fullform In Hindi और भी बहुत कुछ) समझ आ जायेगा इसीलिए इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़िए।

SEO Fullform In Hindi (एसईओ का फुलफॉर्म)

SEO एक शॉर्ट शब्द है जिसका फुलफॉर्म ‘Search Engine Optimization‘ होता है। इसका मतलब होता है किसी भी वेबसाइट, ब्लॉग या वेबपेज को सर्च इंजन जैसे कि Google और bing के लिए ऑप्टिमाइज़ (Optimize) करना।

यदि आपको समझ आ गया है तब अच्छी बात है और समझ नहीं भी आया है तब घबराने की कोई बात नहीं है क्योंकि SEO और सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के बारे में और भी विस्तार में चर्चा इसी आर्टिकल में करेंगे।

इसे भी पढ़ें   Treasure Cloud Review In Hindi - Get Free Cloud Storage

SEO Kya Hai In Hindi (एसईओ क्या है?)

SEO एक तरीका है जिसकी मदद से आप किसी भी वेबपेज को Google और अन्य सर्च इंजन में रैंक करने के लिए तैयार करते हैं। इसके लिए सारे सर्च इंजन के कुछ अपने अल्गोरिथम और फैक्टर होते हैं जिसके आधार पर कोई भी वेबपेज या आर्टिकल सर्च इंजन में रैंक करता है। Google सर्च इंजन के तो बहुत ज्यादा अल्गोरिथम हैं और बहुत ज्यादा चेंज भी होते रहते हैं।

आपको बहुत ज्यादा अल्गोरिथम याद रखने की जरुरत नहीं है क्योंकि इसमें आपका बहुत ज्यादा समय नस्ट हो जायेगा। आपको सिर्फ कुछ जरुरी अल्गोरिथम और फैक्टर को याद रखना है इससे आपका काम चल जायेगा।

🟠 Start Investing In Stock Market To Grow Your Money ➡ Start Investing For Free

Types Of SEO (एसईओ के प्रकार)

SEO मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं जिनके बारे में आपको जानकारी जरूर होनी चाहिए। इसमें सबसे पहला है ऑन पेज एसईओ, दूसरा है ऑफ पेज एसईओ और तीसरा है टेक्निकल एसईओ। (On Page SEO, Off Page SEO & Technical SEO)

On Page SEO Kya Hai (ऑन पेज एसईओ क्या होता है?)

SEO के लिए हमलोग जो भी काम अपने वेबपेज पर वेबपेज को ऑप्टिमाइज़ करने के लिए करते है वो सब On Page SEO के अंदर आता है। इसके अंतर्गत SEO फ्रेंडली आर्टिकल लिखना, इंटरनल लिंकिंग करना और भी बहुत चीजें आती है जो नीचे दी गयी है-

  • Internal Linking (इंटरनल लिंकिंग)
  • Url Structure (यूआरएल का स्ट्रक्चर)
  • Keyword Placement (कीवर्ड प्लेसमेंट)
  • Meta Tags (मेटा टैग्स)
  • Image Alt Text (इमेज ऑल्ट टेक्स्ट)
  • Remove Broken Links (रिमूव ब्रोकन लिंक्स)
इसे भी पढ़ें   Apna Mobile Hack Hone Se Kaise Bachaye - मोबाइल हैक होने से कैसे बचाएं

On Page SEO में और भी कई चीजें आती है लेकिन ये हमने आपको वो सारी चीजें बताई है जो बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है। यदि आप इसके बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तब आप हमारा On Page SEO Guide In Hindi पढ़ सकते हैं। वहाँ पर आपको On Page SEO के बारे में लगभग सबकुछ हिंदी में जानने को मिल जाएगा।

Off Page SEO Kya Hai (ऑफ पेज एसईओ क्या होता है?)

SEO के लिए हमलोग जो भी काम वेबपेज के बाहर वेबपेज को ऑप्टिमाइज़ करने के लिए ही करते हैं वो सब Off Page SEO के अंदर आता है।

  • Backlinks (बैकलिंक्स बनाना)
  • Social Optimization (सोशल ऑप्टिमाइजेशन)
  • Forum Posting (फोरम पोस्टिंग)

इसके अलावा भी ऑफ पेज एसईओ में बहुत सारी चीजें आती है लेकिन ये जो मैंने तीन लिखें है वो बहुत महत्वपूर्ण है। ये थोड़ा कठिन है लेकिन यदि आपको रैंकिंग चाहिए तब आपको करना ही होगा। यदि आप Off Page SEO के बारे में विस्तार से हर चीज जानना चाहते हैं तब आप हमारे Off Page SEO Guide In Hindi को पढ़ सकते हैं।

🟠 Start Investing In Stock Market To Grow Your Money ➡ Start Investing For Free

Technical SEO Kya Hai (टेक्निकल एसईओ क्या होता है?)

SEO का वो भाग जो हमलोग यूजर के एक्सपीरियंस को सही करने के लिए बनाते हैं वो सब Technical SEO के अंदर आता है। इसके अंतर्गत निम्नलिखित चीजें आती हैं-

  • Web Hosting (वेब होस्टिंग)
  • Responsive Theme (रेस्पॉन्सिव थीम)
  • Website Speed (वेबसाइट स्पीड)
  • Remove bad links (स्पैम लिंक्स को हटाएँ)
  • Website Security (वेबसाइट की सिक्योरिटी)
  • Index & Crawl (इंडेक्स और क्रॉल कराना)
इसे भी पढ़ें   Instagram Story Me Link Kaise Dale (इंस्टाग्राम स्टोरी में लिंक कैसे डालें) - Without 10K Followers

Conclusion

आप आर्टिकल कितना भी लिख लें यदि आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक नहीं आता है तब आपका सब मेहनत बर्बाद है। जैसा की आप जानते हैं कि सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (Search Engine Optimization) फ्री में ट्रैफिक पाने का बहुत अच्छा तरीका है इसीलिए इसपर आपको ध्यान जरूर देनी चाहिए। इससे आपको शुरूआती के दिनों में ज्यादा ट्रैफिक नहीं आएंगे लेकिन धीरे धीरे आपको बहुत सारे ट्रैफिक मिलने लगेंगे।

यदि ये आर्टिकल ‘एसईओ क्या होता है, एसईओ फुलफॉर्म (SEO Kya Hai In Hindi)’ पसंद आया हो और इससे आपको कुछ सीखने को मिला हो तब इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिए। यदि आपका सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO Fullform In Hindi) से संबंधी कोई सवाल हो तब आप नीचे कमेंट सेक्शन में जरूर पूछिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here